Welcome to WCD Digital E-Repository "ESanchayika "
www.esanchayika.mp.gov.in


ई-रिपोजिटरी(ई-संचयिका)>> मीडिया अपडेट>> आईसीडीएस न्यूज़ पोर्टल... Back
 | 
मोर डुबुलिया
22-Jun-2016
PHOTO
गर्भावस्था के दौरान सुरक्षित प्रसव से संबंधित बातों जैसे - गर्भावस्था के दौरान किन-किन बातों का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए, आहार कैसा लिया जाए, आयरन फोलिक एसिड की गोलियां कितनी और कब खाई जाए आदि की जानकारी हर गर्भवती और उसके परिवार वालों को होना आवश्यक है। सुरक्षित प्रसव और इन जानकारियों के महत्व को देखते हुए महिला बाल विकास विभाग ने एक अनूठे कार्यक्रम मोर डुबुलिया की शुरुआत की है। इस कार्यक्रम में महिला बाल विकास विभाग के अलावा स्वास्थ्य, राजस्व, ग्रामीण विकास, शिक्षा, जनसम्पर्क, वन, उद्यानिकी, श्रम विभाग सहित नगर निकाय और ग्राम पंचायत भी सहयोग कर रहे हैं। मोर डुबुलिया कार्यक्रम के तहत सुरक्षित प्रसव से जुड़े सभी सवालों के उत्तर और शासकीय योजनाओं की जानकारी एक डब्बे, जिसे स्थानीय बोली में मोर डुबुलिया कहा जाता है, में रखकर गर्भवती महिला को दी जाती है। इस डुबुलिया यानी डब्बा (बाॅक्स)में स्वास्थ्य विभाग द्वारा सुरक्षित प्रसव पुस्तिका, जच्चा-बच्चा सुरक्षा कार्ड, रक्ताल्पता से बचाव के लिए आयरन की गोली, प्राथमिक उपचार की दवाईयों का विवरण सहित पाऊच, दीनदयाल अंत्योदय उपचार योजना का कार्ड, जननी सुरक्षा वाहन नम्बर, जिम्मेदार अधिकारियों एवं क्षेत्रीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के नाम और मोबाइल नम्बर, सखी सहेली कार्ड, लाड़ली लक्ष्मी योजना के आवेदन प्रपत्र, स्व-सहायता समूह गठन प्रक्रिया, डाइट एवं टी.एच.आर. कार्ड, उषा किरण योजना की जानकारी, टी.एच.आर. पाक प्रक्रिया, आयोडीन युक्त नमक, के.वाय.सी. फार्म के साथ ही सरोकार पुस्तिका, स्तनपान प्रोत्साहन पुस्तिका और आगे आयें लाभ उठायें व लोक सेवा प्रदाय गारंटी अधिनियम, कुपोषण से बचाव की जानकारी के फोल्डर्स दिए जाते हैं। इसके अलावा जिला पंचायत द्वारा बैंक खाता खोलने का फार्म, दस्तावेज, जीरो बैलेन्स में खाता खोलने के आदेश, स्व-सहायता समूह और मर्यादा अभियान से जुड़ने, मलेरिया से बचाव की जानकारी, सीड किट्स, जन्म प्रमाण-पत्र का आवेदन पत्र और बचत करने के लिए मिट्टी की डुबुलिया भी दी जाती है। स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास, ग्रामीण विकास एवं अन्य विभागों के बहुत से ऐसे कार्यक्रम हैं, जो महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी हैं। मोर-डुबलिया कार्यक्रम ऐसे ही बहुत सारे बहुउद्देशीय कार्यक्रमों को जोड़ने वाली प्रक्रिया है। प्रायोगिक रुप से शुरु हुआ मोर-डुबलिया काफी सफल एवं लोकप्रिय कार्यक्रम साबित हुआ है।

PHOTO2 PHOTO3
 
News Id: 185
 
 
 
 
More related News>>
 
 
 
Hits Counter:  4086285 
आईसीडीएस मध्यप्रदेश (भारत)  द्वारा निर्मित एवं संचालित | सहयोग - एमपीटास्ट / एफएचआई 360